Aarogya Setu App: सरकार ने जारी किए डेटा प्रोसेसिंग नियम, तोड़ने पर हो सकती है जेल

Aarogya Setu App: सरकार ने जारी किए डेटा प्रोसेसिंग नियम, तोड़ने पर हो सकती है जेल

आरोग्य सेतु एक COVID-19 ट्रैकर ऐप है.

आरोग्य सेतु ऐप के ज़रिए जुटाए गए आकंड़ो की सुरक्षा को लेकर कई पक्षों द्वारा चिंता जताई जा रही थी, जिसको ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा गाइडलाइंस जारी की गई है…

सरकार ने सोमवार को आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) के ज़रिए जुटाए गए डेटा के प्रोसेसिंग पर गाइडलाइंस जारी की है. इसमें इस ऐप के ज़रिए जुटाए गए डेटा को 6 महीने से ज्यादा स्टोर (data store) करने पर प्रतिबंध लगाया गया है और कुछ खास नियमों के उल्लंघन पर जेल का प्रावधान किया गया है. बता दें कि आरोग्य सेतु ऐप के ज़रिए जुटाए गए आकंड़ो की सुरक्षा को लेकर कई पक्षों द्वारा चिंता जताई जा रही थी, जिसको ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस में एक विकल्प ये भी दिया गया है कि कोई भी व्यक्ति आरोग्य सेतु ऐप से अपने डेटा हटाने के लिए आवेदन कर सकता है और इस तरह के आवेदन मिलने के 30 दिनों के अंदर आरोग्य सेतु ऐप से आवेदक के डेटा को हटा दिया जाएगा.हालांकि वरिष्ठ सरकारी अधिकारी इस बात का आश्वासन दे रहे हैं कि निजता की सुरक्षा आरोग्य सेतु ऐप का अहम पक्ष है. मिनिस्ट्ररी ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी के सचिव अजय प्रकाश साहनी ने रिपोर्टरों से हुई बातचीत में कहा कि आरोग्य सेतु ऐप के डेटा को सुरक्षित रखने के लिए काफी काम किया गया है. लोगों की व्यक्तिगत जानकारियों को दुरुप्रयोग से बचाने के लिए एक अच्छी प्राइवेसी पॉलिसी लाई गई है.(ये भी पढ़ें-शानदार ट्रिक! फोन की स्पीड बढ़ानी है तो अभी डिलीट कर दें फोन का ये एक फोल्डर)  उन्होंने आगे कहा कि आरोग्य सेतु ऐप में डेटा प्राइवेसी को काफी अहमियत दी गई है. हम इस ऐप से प्राप्त सूचनाओं को हॉटस्पॉट एरिया की पहचान के लिए उपयोग में लाते हैं.आरोग्य सेतु ऐप के संदर्भ में जारी नए दिशा-निर्देशों में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों और संक्रमित लोगों के संपर्क में आए दूसरे लोगों से संबंधित सिर्फ डेमोग्राफिक, लोगों के कॉन्टेक्ट, सेल्फ एसेसमेंट और लोकेशन से संबंधित सूचनाओं का संग्रह करने की अनुमति दी गई है.आज की तिथि तक करीब 9.8 करोड़ लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड किया है. COVID-19 कन्टेनमेंट जोन में आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करना अनिवार्य  बना दिया है. ये ऐप किसी कोरोना संक्रमण ग्रस्त के व्यक्ति के संपर्क में आने पर यूज़र्स को अलर्ट जारी कर देता है.(ये भी पढ़ें- ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 12, 2020, 1:27 PM IST

बिलकुल Apple Airpod की तरह है Xiaomi का वायरलेस Earphone, आज सस्ते में खरीदने का मौका

बिलकुल Apple Airpod की तरह है Xiaomi का वायरलेस Earphone, आज सस्ते में खरीदने का मौका

Mi wireless Earphone 2 आज सस्ते में मिल रहा है.

खने में ये ईयरफोन बिलकुल ऐपल (Apple Airpod) के एयरपॉड की तरह है, लेकिन दोनों की कीमत में काफी ज़्यादा फर्क है, और आज पहली सेल में इसे और भी सस्ते में खरीदा जा सकता है…

शियोमी (Xiaomi) ने पिछले हफ्ते भारत में अपना Mi True Wireless Earphones 2 लॉन्च किया है. इस Earphones की पहली सेल आज (12 मई) दोपहर 12 बजे रखी गई है. देखने में ये ईयरफोन बिलकुल ऐपल (Apple Airpod) के एयरपॉड की तरह है, लेकिन दोनों की कीमत में काफी ज़्यादा फर्क है, और ग्राहक शियोमी के बाकी सामान की तरह इसे भी सस्ते में घर ला सकते हैं. आईए जानते हैं क्या है इसके फीचर, कीमत और इसपर मिल रहे डिस्काउंट के बारे में…6 दिन के लिए सस्ते में उपलब्ध शियोमी ने इस वायरलेस ईयरफोन की असल कीमत 4,499 रुपये रखी है, लेकिन अच्छी बात ये है कि इसे 6 दिनों के लिए सस्ते में उपलब्ध कराया जा रहा है. शियोमी ने बताया कि इंट्रोडक्टरी ऑफर के तहत इस Earphones की कीमत 12 से 17 मई तक 3,999 रुपये है. True to life audio experience with #MiTrueWirelessEarphones2. – HD audio – 14.2mm dynamic driver – Dual mic with noise cancellation – Gesture controlGet it at an introductory price of ₹3,999 on May 12 from https://t.co/D3b3Qt4Ujl & @amazonIN. pic.twitter.com/KRuYWqhw5W— Mi India (@XiaomiIndia) May 11, 2020इस ऑफर के खत्म होने के बाद उसके बाद इसकी कीमत 4,499 रुपये हो जाएगी. ग्राहक इस डिवाइस को mi.कॉम, Mi Home और Amazon India से खरीद सकते हैं.इस ईयरफोन में AirPods के फीचर्स मौजूद हैं, इस इयरपीस को आउटर-ईयर फिट के साथ डिज़ाइन किया गया है और इसमें 14.2 एमएम के ड्राइवर्स मौजूद हैं. कंपनी का दावा है कि Mi True Wireless Earphones 2 में दी गई बैटरी सिंगल चार्ज में 4 घंटे का लिस्निंग टाइम देने में सक्षम है, जबकि चार्जिंग केस के साथ 14 दिन की बैटरी लाइफ दे सकती है. इतना ही नहीं ही इस ईयरफोन में नॉइस कैंसिलेशन के लिए ENC भी देती हैAirpod की तरह इस डिवाइस में दिए गए बटन की मदद से यूज़र्स म्यूजिक को कंट्रोल करने के साथ ही कॉल रिसीव कर सकते हैं और वॉयस असिस्टेंट को एक्टिव कर सकते हैं. आपको बता दें, ट्रू वायरलेस ईयरफोन 2 ग्लोबल मार्केट में इसी साल मार्च में लॉन्च हुए हैं. लॉन्च के वक्त इनकी कीमत EUR 80 (लगभग 6,600 रुपये) थी.

First published: May 12, 2020, 9:19 AM IST

लॉकडाउन के बाद हवाई यात्रियों के लिए भी Aarogya Setu App अनिवार्य कर सकती है सरकार

लॉकडाउन के बाद हवाई यात्रियों के लिए भी Aarogya Setu App अनिवार्य कर सकती है सरकार

Aarogya Setu App लोगों को यह पता लगाने में मदद करता है कि वे कोविड-19 के जोखिम में तो नहीं हैं.कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को समाप्त हो रहा है.

By : एबीपी न्यूज़ | 12 May 2020 08:27 AM (IST)

नई दिल्ली: केंद्र सरकार लॉकडाउन के बाद हवाई यात्रा करने वाले लोगों के मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु ऐप होना अनिवार्य कर सकती है. सरकार के अधिकारियों ने कहा, ‘‘हवाई यात्रियों के लिए इस ऐप को अनिवार्य करने के संबंध में एयरलाइन्स से प्रारंभिक चर्चा हुई है.’’ उन्होंने कहा कि नागर विमानन मंत्रालय ने इस संबंध में कोई फैसला नहीं किया है.यह मोबाइल ऐप लोगों को यह पता लगाने में मदद करता है कि वे कोविड-19 के जोखिम में तो नहीं हैं. यह लोगों को कोरोना वायरस से बचने के तरीकों, इसके लक्षणों समेत अन्य महत्वपूर्ण जानकारी भी प्रदान करता है.Aarogya Setu App: डेटा को लेकर सरकार ने जारी किए नियम, उल्लंघन करने पर हो सकती है जेलऐप लोगों को उनके स्वास्थ्य की स्थिति और यात्रा पृष्ठभूमि के अनुसार रंगों के हिसाब से स्तर बता सकता है. इससे यह पता लगाने में भी मदद मिल सकती है कि उपयोगकर्ता वायरस संक्रमित किसी रोगी के नजदीक तो नहीं है. अधिकारियों ने कहा, ‘‘अगर नागर विमानन मंत्रालय में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है तो उन लोगों को हवाई यात्रा की इजाजत नहीं दी जाएगी जिनके फोन में ऐप नहीं है.’’कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को समाप्त हो रहा है. सरकार ने अभी व्यावसायिक यात्री उड़ान सेवाओं को बहाल करने का फैसला नहीं किया है जो लॉकडाउन शुरू होने के साथ ही निलंबित कर दी गयी थीं.

पीएम मोदी के संबोधन से पहले ट्रेंड करने लगा Lockdown-4, लोग बोले- ‘मोदी जी टास्क भी देना प्लीज…’

पीएम मोदी के संबोधन से पहले ट्रेंड करने लगा Lockdown-4, लोग बोले- ‘मोदी जी टास्क भी देना प्लीज…’

पीएम मोदी के संबोधन से पहले ट्रेंड करने लगा Lockdown-4, हुई Memes की बरसात…कोरोनावायरस (Coronavirus) संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) आज रात 8 बजे देश को संबोधित करेंगे. पीएम मोदी का यह संबोधन लॉकडाउन को लेकर सोमवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक के कुछ घंटों बाद होगा. पीएम मोदी (PM Modi) के संबोधन की खबर आते ही ट्विटर पर लॉकडाउन-4 (Lockdown 4.0) टॉप ट्रेंड कर रहा है. लोगों को पूरी उम्मीद है कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाएगा, जिसके चलते अभी से ट्विटर पर लॉकडाउन-4 ट्रेंड कर रहा है. ट्विटर पर #Lockdown4, नरेंद्र मोदी, Extension और Task जैसे वर्ड टॉप ट्रेंड कर रहा है. लोगों ने मजेदार मीम्स (Lockdown Memes) बनाए हैं. लोग पीएम मोदी से कह रहे हैं कि इस बार उनको कोई न कोई टास्क दें. ट्विटर पर लोगों ने ऐसे रिएक्शन्स दिए हैं…यह भी पढ़ेंif “kya task du ab inhe?” had a face pic.twitter.com/5rwKvS9fWZ
— reeyaaaaaaaaaaaa (@tararumpampam) May 12, 2020#PMModi please task do na#Lockdown4pic.twitter.com/P8oytNTGqV
— Sneha Dutta (@the_snehdutta) May 12, 2020*Modji will address the nation at 8 PM*#Lockdown4 – pic.twitter.com/zFtM1tvSGX
— AaYuu (@A_BrahminGirlll) May 12, 2020#Lockdown4
When people know that
PM Modi Addressing the Nation at 8:00PMEvery indian: pic.twitter.com/eaOeVNUGyB
— Smile please (@mr_unknownJi) May 12, 2020#Lockdown4
PM will be addressing the nation at 8 pm
*Le Indian again: pic.twitter.com/wjdt6jLorM
— Swagat Mishra (@Swag_se_swaagat) May 12, 2020#PMModi 8PM : Mitron
Meanwhile #Lockdown4 : pic.twitter.com/zDcCOfPVVK
— Abhishek Mishra (@Abhi_Mishraji) May 12, 2020Announcement of #Lockdown4 at 8PM pic.twitter.com/D5Wwkl0zpe
— MunNaa (@Munnaa09) May 12, 2020Might possible #Lockdown4pic.twitter.com/deXosxy1HW
— BEARDED BANKER (@BankerBearded) May 12, 2020सूत्रों की ओर से सोमवार को दी गई जानकारी के मुताबिक, देश में 17 मई के बाद भी लॉकडाउन बढ़ाया जा सकता है. मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में लॉकडाउन आगे किस रूप में होगा इसके लिए प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों से 15 मई तक सुझाव मांगे हैं. सूत्रों ने कहा कि कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों में रात्रि कर्फ्यू और सीमित परिवहन व्यवस्था जैसे प्रतिबंध भी लागू रह सकते हैं. बैठक के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया में पर्यटन चौपट है. पर्यटक भारत की ओर रुख कर सकते हैं, इसलिए कोरोना मुक्त राज्य इस बाबत तैयारी करें, क्योंकि देश में टूरिज्म की असीम संभावनाएं हैं.देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से मंगलवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोनावायरस से अब तक 2293 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमितों की संख्या 70,756 हो गई है. 

आरोग्य सेतु ऐप से यूजर्स हटवा सकेंगे अपना डेटा, सरकार ने जारी किए नए नियम

आरोग्य सेतु ऐप से यूजर्स हटवा सकेंगे अपना डेटा, सरकार ने जारी किए नए नियम

आरोग्‍य सेतु एप को लेकर नियम जारी.

नए नियमों के तहत 180 दिनों से अधिक डेटा के भंडारण पर रोक लगाई गई है. यूजर्स के लिए यह प्रावधान किया गया है कि वे आरोग्य सेतु (Aarogya setu App) से संबंधित जानकारियों को मिटाने का अनुरोध कर सकते हैं.

नई दिल्ली. सरकार (Indian Government) ने आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu app) के उपयोगकर्ताओं की जानकारियों (डेटा) के प्रसंस्करण के लिये सोमवार को दिशानिर्देश जारी किया. इसमें कुछ नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों को जेल की सजा का भी प्रावधान किया गया है. नए नियमों के तहत 180 दिनों से अधिक डेटा के भंडारण पर रोक लगायी गयी है. इसके साथ ही उपयोगकर्ताओं के लिये यह प्रावधान किया गया है कि वे आरोग्य सेतु से संबंधित जानकारियों को मिटाने का अनुरोध कर सकते हैं. इस तरह के अनुरोध पर 30 दिन के भीतर अमल करना होगा.नये प्रावधान केवल जनसांख्यिकीय, संपर्क, स्व-मूल्यांकन और कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों या उन लोगों के स्थान डेटा का संग्रह करने की अनुमति देते हैं जो संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं. इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्रालय के सचिव अजय प्रकाश साहनी ने संवाददाताओं से कहा, “डेटा गोपनीयता पर बहुत काम किया गया है. यह सुनिश्चित करने के लिये एक अच्छी गोपनीयता नीति बनायी गयी है कि लोगों के व्यक्तिगत डेटा का दुरुपयोग न हो.’’अभी तक 9.8 करोड़ लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड किया है. यदि इस ऐप के उपयोगकर्ता किसी संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आते हैं, तो ऐप उपयोगकर्ताओं को सचेत करता है. कोविड-19 को लेकर रोक वाले इलाकों में आरोग्य सेतु ऐप को अनिवार्य कर दिया गया है. दिशा-निर्देश में महामारी के प्रसार को नियंत्रित करने में शामिल विभिन्न एजेंसियों द्वारा डेटा को संभालने की प्रक्रिया तय की गयी है. डेटा को अनुसंधान उद्देश्यों के लिये विश्वविद्यालयों के साथ भी साझा किया जा सकता है. हालांकि इसके लिये ऐप का उपयोग करने वाले व्यक्तियों की पहचान कर सकने वाली जानकारियों को पहले हटाना होगा. प्रावधानों में कहा गया है, “इन निर्देशों के किसी भी उल्लंघन के लिये आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 51 से 60 के अनुसार दंड तथा अन्य कानूनी प्रावधान लागू हो सकते हैं.’’आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत जुर्माना लगाने से लेकर जेल की सजा तक का प्रावधान है. साहनी ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण कार्य ऐप से विभिन्न विभागों में डेटा का प्रवाह है जहां व्यक्तियों की गोपनीयता पर बहुत जोर दिया गया है.उन्होंने कहा, “ऐप के उपयोगकर्ताओं को डिवाइस आईडी दी जाती है जिसका उपयोग विभिन्न सूचनाओं और कार्यों को संसाधित करने के लिये किया जाता है. व्यक्ति के संपर्क का उपयोग केवल उपयोगकर्ता को सचेत करने के लिये किया जाता है.’’ यह ऐप एंड्रॉइड, एप्पल के आईओएस और जिओ फोन पर उपलब्ध है. सरकार ने उन लोगों के लिये एक टोल फ्री नंबर 1921 भी जारी किया है जिनके पास स्मार्टफोन नहीं है.साहनी ने कहा, ‘‘आरोग्य सेतु के 13,000 से कम उपयोगकर्ताओं को कोरोना वायरस संक्रमण में सकारात्मक पाया गया है, लेकिन इसकी मदद से लगभग 1.4 लाख ऐसे लोगों का पता लगाया गया और सतर्क किया गया है, जो संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आये हैं.’’ उन्होंने कहा कि गोपनीयता आरोग्य सेतु का एक महत्वपूर्ण पहलू है.नागरिकों के अधिकार का पक्ष रखने वाले कई समूहों ने आरोप लगाया है कि सरकार विशेष रूप से गोपनीयता के आसपास किसी भी कानून की अनुपस्थिति में बड़े पैमाने पर निगरानी के लिए आरोग्य सेतु का उपयोग कर रही है. मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, “प्रोटोकॉल कानूनी अंतर को पाटने और गोपनीयता संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिये जारी किया गया है.”साहनी ने कहा कि एक गैर-संक्रमित व्यक्ति का डेटा 30 दिन में हटा दिया जाता है. इसके अलावा जांच कराने वाले लोगों का डेटा 45 दिन में बौर इलाज कराने वाले लोगों का डेटा 60 दिन में हटा दिया जाता है.यह भी पढ़ें: आदिवासियों तक मदद पहुंचाने के लिए 14 घंटे पैदल चले नौसेना के यह पूर्व कमांडर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 11, 2020, 11:24 PM IST

COVID-19: जानिए देश-दुनिया की कोरोना वायरस से जुड़ी 20 बड़ी बातें

COVID-19: जानिए देश-दुनिया की कोरोना वायरस से जुड़ी 20 बड़ी बातें

<div class=”gs”>
<div class=””>
<div id=”:n9″ class=”ii gt”>
<div id=”:na” class=”a3s aXjCH “>
<div dir=”ltr” style=”text-align: justify;”><strong>नई दिल्ली:</strong> देश में कोरोना का कहर बरपाया हुआ है. दिन-प्रतिदिन कोरोना संक्रमितों का आकड़ा देश में बढ़ता जा रहा है. कोरोना मरीज़ों की संख्या 47152 जा पहुंच गई है. वहीं इस महामारी की चपेट में आने

सुप्रीम कोर्ट ने निदेशक के रूप में हर्षवर्धन लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने निदेशक के रूप में हर्षवर्धन लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका खारिज की

(फाइल फोटो)नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को बिरला समूह की दो  कंपनियों में निदेशक के रूप में हर्षवर्धन लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति को चुनौती देते हुए दायर याचिका को खारिज कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मामला कलकत्ता हाईकोर्ट में सिंगल जज के पास है और वो एक महीने में क्षेत्राधिकार पर फैसला करेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वो हाईकोर्ट के फैसले में दखल नहीं देगा और अंतरिम राहत पर भी हाईकोर्ट ही फैसला देगा. इस मामले को लेकर बिड़ला परिवार की तरफ से शीर्ष अदालत में चुनौती दी गयी थी.यह भी पढ़ेंपरिवार ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी है कि समूह की कंपनियों विंध्य टेललिंक और बिड़ला केबल में निदेशक के रूप में लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति की अनुमति दी है. हालांकि लोढ़ा रोटेशन से इन पदों से सेवानिवृत्त हुए हैं. पिछले हफ्ते एक प्रस्ताव में इन दोनों कंपनियों की वार्षिक आम बैठक ( AGM) पारित हुईं और इनमें कहा गया कि लोढ़ा दोनों फर्मों में लाभ से संबंधित कमीशन के हकदार है.प्रियंवदा बिड़ला की वसीहत की वैधता के कानूनी विवाद में संपत्ति को लेकर चार्टर्ड अकाउंटेंट आर.एस. लोढ़ा और उनके बेटे हर्षवर्धन लोढ़ा के मामले में पीठ ने ने प्रोबेट अदालत से अपील की था कि वह अपीलकर्ता MP बिरला समूह की कंपनियों की याचिका पर सुनवाई करे.

अब फोन पर फ्री में सुने 1 लाख नए-पुराने गानें, कमाल की सर्विस दे रही है ये म्युज़िक स्ट्रीमिंग ऐप

अब फोन पर फ्री में सुने 1 लाख नए-पुराने गानें, कमाल की सर्विस दे रही है ये म्युज़िक स्ट्रीमिंग ऐप

Spotify के यूजर्स को Saregama के सारे कैटलॉग सुनने को मिलेंगे.

अब Spotify के भारतीय यूजर्स को Saregama के सारे कैटलॉग सुनने को मिलेंगे, जिसमें फिल्मी संगीत के साथ ही 25 से ज्यादा भाषाओं के गाने शामिल है…

म्यूजिक स्ट्रीमिंग सेवा स्पॉटीफाई (Spotify) ने सारेगामा (Saregamapa) के साथ भारतीय बाजार के लिए लाइसेंसिंग साझेदारी समझौता किया है. कंपनी द्वारा सोमवार को किए गए ऐलान में बताया गया है कि इस भागीदारी के चलते Spotify के भारतीय यूज़र्स को Saregama के सारे कैटलॉग सुनने को मिलेंगे, जिसमें फिल्मी संगीत के साथ ही 25 से ज्यादा भाषाओं के गाने शामिल है. इसके अलावा इसमें कर्नाटक, हिंदुस्तानी क्लासिकल और भक्ति संगीत भी शामिल है.Spotify के डायरेक्टर ऑफ ग्लोबल लाइसेसिंग पॉल स्मिथ ने अपने बयान में कहा है कि Saregama के साथ हुए इस करार के चलते स्पॉटिफाई इंडिया के यूज़र्स को 100,000 रेट्रो और नए ज़माने के गाने मिलेंगे. साथ ही उन्हें तमाम स्थानीय भाषाओं ने उनके पसंद के नए-पुराने गाने सुनने की सहूलियत प्राप्त होगी.(ये भी पढ़ें- ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन) गौरतलब है कि पूरी दुनिया में Spotify के करीब 28.6 करोड़ यूजर्स है जिसमें से करीब 13 करोड़ यूजर्स पेड सब्सक्राइबर हैं.अब भारत में Spotify के यूजर्स  लता मंगेशकर, आरडी बर्मन, मोहम्मद रफ़ी, तलत महमूद, मन्ना डे, कल्याणजी-आनंदजी, हेमंत कुमार के गाये गानों का मजा ले सकेंगे. इसके साथ ही वो Spotify प्लेलिस्ट में भी अपनी पसंद के गाने पा सकेंगे जिसमें भारतीय  फिल्मों के अलग-अलग टाइटल पर आधारित तमाम नए-पुराने गाने उपलब्ध हैं.(ये भी पढ़ें-शानदार ट्रिक! फोन की स्पीड बढ़ानी है तो अभी डिलीट कर दें फोन का ये एक फोल्डर) Saregama इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर विक्रम मेहरा ने कहा कि  Spotify के साथ हुए करार से हमें खुशी है. अब हमारे कैटलॉग में उपलब्ध संपूर्ण संगीत भारत सहित पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा. Saregama के पास 25 से ज्यादा भाषाओं  में नए और पुराने गानों का जबरदस्त संग्रह है. हमें उम्मीद है कि इस करार से हमारे स्रोताओं को भी खुशी होगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 11, 2020, 5:22 PM IST

बेहद सस्ते में लॉन्च हुआ Realme Narzo 10, फोन में 48 मेगापिक्सल के 4 कैमरे और कई खास फीचर्स

बेहद सस्ते में लॉन्च हुआ Realme Narzo 10, फोन में 48 मेगापिक्सल के 4 कैमरे और कई खास फीचर्स

Realme Narzo 10 में क्वाड कैमरा सेटअप है.

रियलमी Narzo 10 की सबसे खास बात इसकी कम कीमत में 5000mAh की बैटरी और क्वाड कैमरा सेटअप है…

रियलमी (Realme) ने आज अपने दो स्मार्टफोन Narzo 10 और Narzo 10A को लॉन्च कर दिया है. इन फोन का भारतीय बाज़ार में काफी समय से इंतज़ार किया जा रहा था, और आकिरकार इन दोनों फोन पर से पर्दा उठा दिया गया है. इन दोनों फोन में से Narzo 10 की बात करें तो इसकी सबसे खास बात इसकी कम कीमत में 5000mAh की बैटरी और क्वाड कैमरा सेटअप है. आईए जानते हैं नार्ज़ो 10 के फीचर्स…रियलमी Narzo 10  में 6.5 इंच का एचडी प्लस डिस्प्ले दिया गया है, जिसका रिजोलूशन 720×1600 पिक्सल है. स्क्रीन की प्रोटेक्शन के लिए 2.5D कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास दिया गया है. ये स्मार्टफोन एंड्रॉयड 10 पर बेस्ड रियलमी UI ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है.(ये भी पढ़ें- ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन) इसके अलावा इस स्मार्टफोन में बेहतर परफॉर्मेंस के लिए ऑक्टा-कोर MediaTek Helio जी80 चिपसेट के साथ 4 जीबी LPDDR4X रैम का सपोर्ट मिला है.  इस स्मार्टफोन को ग्रीन और वाइट कलर ऑप्शन के साथ खरीदा जा सकेगा.Realme Narzo 10 का कैमरा
इस स्मार्टफोन में क्वाड रियर कैमरा सेटअप दिया गया है, जिसमें 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी लेंस, 8 मेगापिक्सल का लेंस, 2 मेगापिक्सल का मोनोक्रोम सेंसर और 2 मेगापिक्सल का मैक्रो शूटर मौजूद है.  इसके अलावा स्मार्टफोन के फ्रंट में में 16 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा दिया गया है, जो एचडी वीडियो क्वालिटी को सपोर्ट करता है.(ये भी पढ़ें-शानदार ट्रिक! फोन की स्पीड बढ़ानी है तो अभी डिलीट कर दें फोन का ये एक फोल्डर) पावर के लिए स्मार्टफोन में 5,000 एमएएच की बैटरी दी गई है, जो कि 18 वॉट की क्विक चार्जिंग फीचर के साथ आती है. कनेक्टिविटी की बात करें तो इस स्मार्टफोन में 4जी LTE, वाई-फाई, ब्लूटूथ, जीपीएस और यूएसबी पोर्ट टाइप-सी जैसे फीचर्स दिए गए हैं.इतनी है Narzo 10 की कीमत कंपनी ने Realme Narzo 10 के 4 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज वाले वेरिएंट की कीमत 11,999 रुपये रखी है. इस स्मार्टफोन की बिक्री कंपनी की आधिकारिक साइट और ई-कॉमर्स साइट फ्लिपकार्ट पर 18 मई से शुरू होगी.(ये भी पढ़ें- बुरी खबर! महंगा हो गया Xiaomi का 64 मेगापिक्सल कैमरे वाला शानदार स्मार्टफोन) 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लॉन्च/रिव्यू से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 11, 2020, 4:52 PM IST

महाराष्ट्र पुलिस में कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों का आंकड़ा 1000 के पार पहुंचा | ABP News Hindi

महाराष्ट्र पुलिस में कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों का आंकड़ा 1000 के पार पहुंचा | ABP News Hindi

Updated : 11 May 2020 01:30 PM (IST)

महाराष्ट्र में कोरोना का खतरा बढ़ते ही जा रहा है. नए आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र पुलिस के 1000 से ज़्यादा पुलिसकर्मी कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं. हालांकि 113 पुलिसकर्मी कोरोना से लड़ कर ठीक भी हो चुके हैं. कोरोना मरीज़ों के मामलों में महाराष्ट्र देश में पहले नंबर पर है.