लॉकडाउन के बाद हवाई यात्रियों के लिए भी Aarogya Setu App अनिवार्य कर सकती है सरकार

लॉकडाउन के बाद हवाई यात्रियों के लिए भी Aarogya Setu App अनिवार्य कर सकती है सरकार

Aarogya Setu App लोगों को यह पता लगाने में मदद करता है कि वे कोविड-19 के जोखिम में तो नहीं हैं.कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को समाप्त हो रहा है.

By : एबीपी न्यूज़ | 12 May 2020 08:27 AM (IST)

नई दिल्ली: केंद्र सरकार लॉकडाउन के बाद हवाई यात्रा करने वाले लोगों के मोबाइल फोन में आरोग्य सेतु ऐप होना अनिवार्य कर सकती है. सरकार के अधिकारियों ने कहा, ‘‘हवाई यात्रियों के लिए इस ऐप को अनिवार्य करने के संबंध में एयरलाइन्स से प्रारंभिक चर्चा हुई है.’’ उन्होंने कहा कि नागर विमानन मंत्रालय ने इस संबंध में कोई फैसला नहीं किया है.यह मोबाइल ऐप लोगों को यह पता लगाने में मदद करता है कि वे कोविड-19 के जोखिम में तो नहीं हैं. यह लोगों को कोरोना वायरस से बचने के तरीकों, इसके लक्षणों समेत अन्य महत्वपूर्ण जानकारी भी प्रदान करता है.Aarogya Setu App: डेटा को लेकर सरकार ने जारी किए नियम, उल्लंघन करने पर हो सकती है जेलऐप लोगों को उनके स्वास्थ्य की स्थिति और यात्रा पृष्ठभूमि के अनुसार रंगों के हिसाब से स्तर बता सकता है. इससे यह पता लगाने में भी मदद मिल सकती है कि उपयोगकर्ता वायरस संक्रमित किसी रोगी के नजदीक तो नहीं है. अधिकारियों ने कहा, ‘‘अगर नागर विमानन मंत्रालय में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाती है तो उन लोगों को हवाई यात्रा की इजाजत नहीं दी जाएगी जिनके फोन में ऐप नहीं है.’’कोरोना वायरस के कारण लागू लॉकडाउन का तीसरा चरण 17 मई को समाप्त हो रहा है. सरकार ने अभी व्यावसायिक यात्री उड़ान सेवाओं को बहाल करने का फैसला नहीं किया है जो लॉकडाउन शुरू होने के साथ ही निलंबित कर दी गयी थीं.

पीएम मोदी के संबोधन से पहले ट्रेंड करने लगा Lockdown-4, लोग बोले- ‘मोदी जी टास्क भी देना प्लीज…’

पीएम मोदी के संबोधन से पहले ट्रेंड करने लगा Lockdown-4, लोग बोले- ‘मोदी जी टास्क भी देना प्लीज…’

पीएम मोदी के संबोधन से पहले ट्रेंड करने लगा Lockdown-4, हुई Memes की बरसात…कोरोनावायरस (Coronavirus) संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) आज रात 8 बजे देश को संबोधित करेंगे. पीएम मोदी का यह संबोधन लॉकडाउन को लेकर सोमवार को राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक के कुछ घंटों बाद होगा. पीएम मोदी (PM Modi) के संबोधन की खबर आते ही ट्विटर पर लॉकडाउन-4 (Lockdown 4.0) टॉप ट्रेंड कर रहा है. लोगों को पूरी उम्मीद है कि लॉकडाउन को बढ़ाया जाएगा, जिसके चलते अभी से ट्विटर पर लॉकडाउन-4 ट्रेंड कर रहा है. ट्विटर पर #Lockdown4, नरेंद्र मोदी, Extension और Task जैसे वर्ड टॉप ट्रेंड कर रहा है. लोगों ने मजेदार मीम्स (Lockdown Memes) बनाए हैं. लोग पीएम मोदी से कह रहे हैं कि इस बार उनको कोई न कोई टास्क दें. ट्विटर पर लोगों ने ऐसे रिएक्शन्स दिए हैं…यह भी पढ़ेंif “kya task du ab inhe?” had a face pic.twitter.com/5rwKvS9fWZ
— reeyaaaaaaaaaaaa (@tararumpampam) May 12, 2020#PMModi please task do na#Lockdown4pic.twitter.com/P8oytNTGqV
— Sneha Dutta (@the_snehdutta) May 12, 2020*Modji will address the nation at 8 PM*#Lockdown4 – pic.twitter.com/zFtM1tvSGX
— AaYuu (@A_BrahminGirlll) May 12, 2020#Lockdown4
When people know that
PM Modi Addressing the Nation at 8:00PMEvery indian: pic.twitter.com/eaOeVNUGyB
— Smile please (@mr_unknownJi) May 12, 2020#Lockdown4
PM will be addressing the nation at 8 pm
*Le Indian again: pic.twitter.com/wjdt6jLorM
— Swagat Mishra (@Swag_se_swaagat) May 12, 2020#PMModi 8PM : Mitron
Meanwhile #Lockdown4 : pic.twitter.com/zDcCOfPVVK
— Abhishek Mishra (@Abhi_Mishraji) May 12, 2020Announcement of #Lockdown4 at 8PM pic.twitter.com/D5Wwkl0zpe
— MunNaa (@Munnaa09) May 12, 2020Might possible #Lockdown4pic.twitter.com/deXosxy1HW
— BEARDED BANKER (@BankerBearded) May 12, 2020सूत्रों की ओर से सोमवार को दी गई जानकारी के मुताबिक, देश में 17 मई के बाद भी लॉकडाउन बढ़ाया जा सकता है. मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक में लॉकडाउन आगे किस रूप में होगा इसके लिए प्रधानमंत्री ने सभी राज्यों से 15 मई तक सुझाव मांगे हैं. सूत्रों ने कहा कि कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित क्षेत्रों में रात्रि कर्फ्यू और सीमित परिवहन व्यवस्था जैसे प्रतिबंध भी लागू रह सकते हैं. बैठक के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि पूरी दुनिया में पर्यटन चौपट है. पर्यटक भारत की ओर रुख कर सकते हैं, इसलिए कोरोना मुक्त राज्य इस बाबत तैयारी करें, क्योंकि देश में टूरिज्म की असीम संभावनाएं हैं.देश में कोरोनावायरस (Coronavirus) के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं. स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से मंगलवार को जारी आंकड़ों के मुताबिक, देश में कोरोनावायरस से अब तक 2293 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि संक्रमितों की संख्या 70,756 हो गई है. 

COVID-19: जानिए देश-दुनिया की कोरोना वायरस से जुड़ी 20 बड़ी बातें

COVID-19: जानिए देश-दुनिया की कोरोना वायरस से जुड़ी 20 बड़ी बातें

<div class=”gs”>
<div class=””>
<div id=”:n9″ class=”ii gt”>
<div id=”:na” class=”a3s aXjCH “>
<div dir=”ltr” style=”text-align: justify;”><strong>नई दिल्ली:</strong> देश में कोरोना का कहर बरपाया हुआ है. दिन-प्रतिदिन कोरोना संक्रमितों का आकड़ा देश में बढ़ता जा रहा है. कोरोना मरीज़ों की संख्या 47152 जा पहुंच गई है. वहीं इस महामारी की चपेट में आने

सुप्रीम कोर्ट ने निदेशक के रूप में हर्षवर्धन लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका खारिज की

सुप्रीम कोर्ट ने निदेशक के रूप में हर्षवर्धन लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति को चुनौती देने वाली याचिका खारिज की

(फाइल फोटो)नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को बिरला समूह की दो  कंपनियों में निदेशक के रूप में हर्षवर्धन लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति को चुनौती देते हुए दायर याचिका को खारिज कर दिया है. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि मामला कलकत्ता हाईकोर्ट में सिंगल जज के पास है और वो एक महीने में क्षेत्राधिकार पर फैसला करेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि वो हाईकोर्ट के फैसले में दखल नहीं देगा और अंतरिम राहत पर भी हाईकोर्ट ही फैसला देगा. इस मामले को लेकर बिड़ला परिवार की तरफ से शीर्ष अदालत में चुनौती दी गयी थी.यह भी पढ़ेंपरिवार ने कलकत्ता उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी है कि समूह की कंपनियों विंध्य टेललिंक और बिड़ला केबल में निदेशक के रूप में लोढ़ा की पुनर्नियुक्ति की अनुमति दी है. हालांकि लोढ़ा रोटेशन से इन पदों से सेवानिवृत्त हुए हैं. पिछले हफ्ते एक प्रस्ताव में इन दोनों कंपनियों की वार्षिक आम बैठक ( AGM) पारित हुईं और इनमें कहा गया कि लोढ़ा दोनों फर्मों में लाभ से संबंधित कमीशन के हकदार है.प्रियंवदा बिड़ला की वसीहत की वैधता के कानूनी विवाद में संपत्ति को लेकर चार्टर्ड अकाउंटेंट आर.एस. लोढ़ा और उनके बेटे हर्षवर्धन लोढ़ा के मामले में पीठ ने ने प्रोबेट अदालत से अपील की था कि वह अपीलकर्ता MP बिरला समूह की कंपनियों की याचिका पर सुनवाई करे.

महाराष्ट्र पुलिस में कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों का आंकड़ा 1000 के पार पहुंचा | ABP News Hindi

महाराष्ट्र पुलिस में कोरोना संक्रमित पुलिसकर्मियों का आंकड़ा 1000 के पार पहुंचा | ABP News Hindi

Updated : 11 May 2020 01:30 PM (IST)

महाराष्ट्र में कोरोना का खतरा बढ़ते ही जा रहा है. नए आंकड़ों के मुताबिक महाराष्ट्र पुलिस के 1000 से ज़्यादा पुलिसकर्मी कोरोना पॉज़िटिव पाए गए हैं. हालांकि 113 पुलिसकर्मी कोरोना से लड़ कर ठीक भी हो चुके हैं. कोरोना मरीज़ों के मामलों में महाराष्ट्र देश में पहले नंबर पर है. 

International Nurses Day 2020: जानिए अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस के बारे में ये जरूरी बातें

International Nurses Day 2020: जानिए अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस के बारे में ये जरूरी बातें

International Nurses Day 2020: नाइटिंगेल के जन्मदिन पर मनाया जाता है नर्स दिवसनई दिल्ली: International Nurses Day 2020: अंतरराष्‍ट्रीय नर्स दिवस हर साल 12 मई को मनाया जाता है. यह दिवस मुख्य रूप से विश्वभर की नर्सेज के सम्मान में मनाया जाता है. दरअसल, नर्सेज विश्वभर में अलग-अलग बीमारियों से पीड़ित लोगों की मदद करती हैं. मरीजों की सुविधाओं के लिए ही नर्स काम करती हैं ताकि वो उनकी उचित देखभाल कर सकें. नर्सों को बीमार व्यक्ति के बारे में हर प्रकार की जानकारी रखनी पड़ती है और इसके बाद मरीजों की शारीरिक स्थितियों को देखते हुए वो उनके इलाज में मदद करनी पड़ती हैं. दुनिया भर में फैली कोरोनावायरस महामारी के इस दौर में नर्सों की भूमिका और भी बड़ी हो गई है.नर्सें दिन-रात काम करती हैं. नर्स, मरीजों को दी जाने वाली हर प्रकार की सुविधाओं और सेवाओं का खयाल रखती हैं. नर्सें, मरीजों को जल्दी ठीक करने और उनकी हर तरह से देखभाल करने का काम करती हैं. 12 मई को नर्स दिवस इसके संस्थापक के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है, जिन्हें नाइटिंगेल ऑफ फ्लोरेंस (Nightingale of Florence) कहा जाता है. कैसे हुई अंतरराष्ट्रिय नर्स दिवस की शुरुआत
दरअसल, नाइटिंगेल ऑफ फ्लोरेंस, मॉर्डन नर्सिंग की फाउंडर थीं. उन्होंने क्रीमिया के युद्ध के दौरान कई महिलाओं को नर्स की ट्रेनिंग दी थी और कई सैनिकों का इलाज भी किया था. उन्होंने नर्सिंग को एक पेशा बनाया और वह विक्टोरियन संस्कृति की एक आइकन बनीं. विशेष रूप से वह “लेडी विद द लैंप” (Lady With the Lamp) के नाम से जानी गईं क्योंकि वह रात के वक्त कई सैनिकों का इलाज किया करती थीं. इसके बाद 1860 में, नाइटिंगेल ने लंदन में सेंट थॉमस अस्पताल में अपने नर्सिंग स्कूल की स्थापना के साथ पेशेवर नर्सिंग की नींव रखी थी. यह दुनिया का पहला नर्सिंग स्कूल था, जो अब लंदन के किंग्‍स कॉलेज का हिस्सा है. नर्सिंग में अपने अग्रणी कार्य के कारण पहचान बनाने वाली फ्लोरेंस के नाम पर ही नई नर्सों द्वारा नाइटिंगेल प्लेज ली जाती है. नर्स के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर फ्लोरेंस नाइटिंगेल मेडल ही सबसे उच्च प्रतिष्ठत है. दुनिया भर में अंतरराष्‍ट्रीय नर्स दिवस फ्लोरेंस के जन्मदिन पर मनाया जाता है.जनवरी 1974 में फ्लोरेंस नाइटिंगेल की याद में 12 मई को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाए जाने का प्रस्ताव यूएस में पारित हुआ था. हालांकि, इंटरनेशनल काउंसिल ऑफ नर्स (ICN) 1965 से अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाता आ रहा है. हर साल इस मौके पर ICN अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस किट वितरित करता है. इस किट में आम लोगों की जानकारी के लिए कुछ किताबें होती हैं, जिन्हें सब देशों की नर्सों द्वारा इस्तेमाल किया जाता है. अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस 2020 की थीम
ICN की वेबसाइट के मुताबिक, इस साल नर्स दिवस की थीम ”विश्व स्वास्थ्य के लिए नर्सिंग है.” यह नर्सों और जनता को अंतरराष्ट्रीय नर्स दिवस मनाने के लिए प्रोत्साहित करेगा. साथ ही यह लोगों को इसके प्रति जागरूक भी करेगा ताकि आने वाली पीढ़ी नर्स परिवार का एक हिस्सा बनने के लिए प्रोत्साहित हों.यहां आपको बता दें कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) द्वारा पहले ही 2020 को नर्सों और मिड वाइव्ज के नाम कर दिया गया है. दरअसल, विश्वभर के कई देशों में फैले कोरोनावायरस के कारण लगातार अपनी ड्यूटी कर रहीं नर्स और मिडवाइव्ज को देखते हुए यह साल उनके नाम किया गया है.