Aarogya Setu App: सरकार ने जारी किए डेटा प्रोसेसिंग नियम, तोड़ने पर हो सकती है जेल

Aarogya Setu App: सरकार ने जारी किए डेटा प्रोसेसिंग नियम, तोड़ने पर हो सकती है जेल

आरोग्य सेतु एक COVID-19 ट्रैकर ऐप है.

आरोग्य सेतु ऐप के ज़रिए जुटाए गए आकंड़ो की सुरक्षा को लेकर कई पक्षों द्वारा चिंता जताई जा रही थी, जिसको ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा गाइडलाइंस जारी की गई है…

सरकार ने सोमवार को आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu App) के ज़रिए जुटाए गए डेटा के प्रोसेसिंग पर गाइडलाइंस जारी की है. इसमें इस ऐप के ज़रिए जुटाए गए डेटा को 6 महीने से ज्यादा स्टोर (data store) करने पर प्रतिबंध लगाया गया है और कुछ खास नियमों के उल्लंघन पर जेल का प्रावधान किया गया है. बता दें कि आरोग्य सेतु ऐप के ज़रिए जुटाए गए आकंड़ो की सुरक्षा को लेकर कई पक्षों द्वारा चिंता जताई जा रही थी, जिसको ध्यान में रखते हुए सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस में एक विकल्प ये भी दिया गया है कि कोई भी व्यक्ति आरोग्य सेतु ऐप से अपने डेटा हटाने के लिए आवेदन कर सकता है और इस तरह के आवेदन मिलने के 30 दिनों के अंदर आरोग्य सेतु ऐप से आवेदक के डेटा को हटा दिया जाएगा.हालांकि वरिष्ठ सरकारी अधिकारी इस बात का आश्वासन दे रहे हैं कि निजता की सुरक्षा आरोग्य सेतु ऐप का अहम पक्ष है. मिनिस्ट्ररी ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी के सचिव अजय प्रकाश साहनी ने रिपोर्टरों से हुई बातचीत में कहा कि आरोग्य सेतु ऐप के डेटा को सुरक्षित रखने के लिए काफी काम किया गया है. लोगों की व्यक्तिगत जानकारियों को दुरुप्रयोग से बचाने के लिए एक अच्छी प्राइवेसी पॉलिसी लाई गई है.(ये भी पढ़ें-शानदार ट्रिक! फोन की स्पीड बढ़ानी है तो अभी डिलीट कर दें फोन का ये एक फोल्डर)  उन्होंने आगे कहा कि आरोग्य सेतु ऐप में डेटा प्राइवेसी को काफी अहमियत दी गई है. हम इस ऐप से प्राप्त सूचनाओं को हॉटस्पॉट एरिया की पहचान के लिए उपयोग में लाते हैं.आरोग्य सेतु ऐप के संदर्भ में जारी नए दिशा-निर्देशों में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों और संक्रमित लोगों के संपर्क में आए दूसरे लोगों से संबंधित सिर्फ डेमोग्राफिक, लोगों के कॉन्टेक्ट, सेल्फ एसेसमेंट और लोकेशन से संबंधित सूचनाओं का संग्रह करने की अनुमति दी गई है.आज की तिथि तक करीब 9.8 करोड़ लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड किया है. COVID-19 कन्टेनमेंट जोन में आरोग्य सेतु ऐप को डाउनलोड करना अनिवार्य  बना दिया है. ये ऐप किसी कोरोना संक्रमण ग्रस्त के व्यक्ति के संपर्क में आने पर यूज़र्स को अलर्ट जारी कर देता है.(ये भी पढ़ें- ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन)

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 12, 2020, 1:27 PM IST

बिलकुल Apple Airpod की तरह है Xiaomi का वायरलेस Earphone, आज सस्ते में खरीदने का मौका

बिलकुल Apple Airpod की तरह है Xiaomi का वायरलेस Earphone, आज सस्ते में खरीदने का मौका

Mi wireless Earphone 2 आज सस्ते में मिल रहा है.

खने में ये ईयरफोन बिलकुल ऐपल (Apple Airpod) के एयरपॉड की तरह है, लेकिन दोनों की कीमत में काफी ज़्यादा फर्क है, और आज पहली सेल में इसे और भी सस्ते में खरीदा जा सकता है…

शियोमी (Xiaomi) ने पिछले हफ्ते भारत में अपना Mi True Wireless Earphones 2 लॉन्च किया है. इस Earphones की पहली सेल आज (12 मई) दोपहर 12 बजे रखी गई है. देखने में ये ईयरफोन बिलकुल ऐपल (Apple Airpod) के एयरपॉड की तरह है, लेकिन दोनों की कीमत में काफी ज़्यादा फर्क है, और ग्राहक शियोमी के बाकी सामान की तरह इसे भी सस्ते में घर ला सकते हैं. आईए जानते हैं क्या है इसके फीचर, कीमत और इसपर मिल रहे डिस्काउंट के बारे में…6 दिन के लिए सस्ते में उपलब्ध शियोमी ने इस वायरलेस ईयरफोन की असल कीमत 4,499 रुपये रखी है, लेकिन अच्छी बात ये है कि इसे 6 दिनों के लिए सस्ते में उपलब्ध कराया जा रहा है. शियोमी ने बताया कि इंट्रोडक्टरी ऑफर के तहत इस Earphones की कीमत 12 से 17 मई तक 3,999 रुपये है. True to life audio experience with #MiTrueWirelessEarphones2. – HD audio – 14.2mm dynamic driver – Dual mic with noise cancellation – Gesture controlGet it at an introductory price of ₹3,999 on May 12 from https://t.co/D3b3Qt4Ujl & @amazonIN. pic.twitter.com/KRuYWqhw5W— Mi India (@XiaomiIndia) May 11, 2020इस ऑफर के खत्म होने के बाद उसके बाद इसकी कीमत 4,499 रुपये हो जाएगी. ग्राहक इस डिवाइस को mi.कॉम, Mi Home और Amazon India से खरीद सकते हैं.इस ईयरफोन में AirPods के फीचर्स मौजूद हैं, इस इयरपीस को आउटर-ईयर फिट के साथ डिज़ाइन किया गया है और इसमें 14.2 एमएम के ड्राइवर्स मौजूद हैं. कंपनी का दावा है कि Mi True Wireless Earphones 2 में दी गई बैटरी सिंगल चार्ज में 4 घंटे का लिस्निंग टाइम देने में सक्षम है, जबकि चार्जिंग केस के साथ 14 दिन की बैटरी लाइफ दे सकती है. इतना ही नहीं ही इस ईयरफोन में नॉइस कैंसिलेशन के लिए ENC भी देती हैAirpod की तरह इस डिवाइस में दिए गए बटन की मदद से यूज़र्स म्यूजिक को कंट्रोल करने के साथ ही कॉल रिसीव कर सकते हैं और वॉयस असिस्टेंट को एक्टिव कर सकते हैं. आपको बता दें, ट्रू वायरलेस ईयरफोन 2 ग्लोबल मार्केट में इसी साल मार्च में लॉन्च हुए हैं. लॉन्च के वक्त इनकी कीमत EUR 80 (लगभग 6,600 रुपये) थी.

First published: May 12, 2020, 9:19 AM IST

आरोग्य सेतु ऐप से यूजर्स हटवा सकेंगे अपना डेटा, सरकार ने जारी किए नए नियम

आरोग्य सेतु ऐप से यूजर्स हटवा सकेंगे अपना डेटा, सरकार ने जारी किए नए नियम

आरोग्‍य सेतु एप को लेकर नियम जारी.

नए नियमों के तहत 180 दिनों से अधिक डेटा के भंडारण पर रोक लगाई गई है. यूजर्स के लिए यह प्रावधान किया गया है कि वे आरोग्य सेतु (Aarogya setu App) से संबंधित जानकारियों को मिटाने का अनुरोध कर सकते हैं.

नई दिल्ली. सरकार (Indian Government) ने आरोग्य सेतु ऐप (Aarogya Setu app) के उपयोगकर्ताओं की जानकारियों (डेटा) के प्रसंस्करण के लिये सोमवार को दिशानिर्देश जारी किया. इसमें कुछ नियमों का उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों को जेल की सजा का भी प्रावधान किया गया है. नए नियमों के तहत 180 दिनों से अधिक डेटा के भंडारण पर रोक लगायी गयी है. इसके साथ ही उपयोगकर्ताओं के लिये यह प्रावधान किया गया है कि वे आरोग्य सेतु से संबंधित जानकारियों को मिटाने का अनुरोध कर सकते हैं. इस तरह के अनुरोध पर 30 दिन के भीतर अमल करना होगा.नये प्रावधान केवल जनसांख्यिकीय, संपर्क, स्व-मूल्यांकन और कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों या उन लोगों के स्थान डेटा का संग्रह करने की अनुमति देते हैं जो संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आते हैं. इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) मंत्रालय के सचिव अजय प्रकाश साहनी ने संवाददाताओं से कहा, “डेटा गोपनीयता पर बहुत काम किया गया है. यह सुनिश्चित करने के लिये एक अच्छी गोपनीयता नीति बनायी गयी है कि लोगों के व्यक्तिगत डेटा का दुरुपयोग न हो.’’अभी तक 9.8 करोड़ लोगों ने आरोग्य सेतु ऐप डाउनलोड किया है. यदि इस ऐप के उपयोगकर्ता किसी संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आते हैं, तो ऐप उपयोगकर्ताओं को सचेत करता है. कोविड-19 को लेकर रोक वाले इलाकों में आरोग्य सेतु ऐप को अनिवार्य कर दिया गया है. दिशा-निर्देश में महामारी के प्रसार को नियंत्रित करने में शामिल विभिन्न एजेंसियों द्वारा डेटा को संभालने की प्रक्रिया तय की गयी है. डेटा को अनुसंधान उद्देश्यों के लिये विश्वविद्यालयों के साथ भी साझा किया जा सकता है. हालांकि इसके लिये ऐप का उपयोग करने वाले व्यक्तियों की पहचान कर सकने वाली जानकारियों को पहले हटाना होगा. प्रावधानों में कहा गया है, “इन निर्देशों के किसी भी उल्लंघन के लिये आपदा प्रबंधन अधिनियम, 2005 की धारा 51 से 60 के अनुसार दंड तथा अन्य कानूनी प्रावधान लागू हो सकते हैं.’’आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत जुर्माना लगाने से लेकर जेल की सजा तक का प्रावधान है. साहनी ने कहा कि सबसे महत्वपूर्ण कार्य ऐप से विभिन्न विभागों में डेटा का प्रवाह है जहां व्यक्तियों की गोपनीयता पर बहुत जोर दिया गया है.उन्होंने कहा, “ऐप के उपयोगकर्ताओं को डिवाइस आईडी दी जाती है जिसका उपयोग विभिन्न सूचनाओं और कार्यों को संसाधित करने के लिये किया जाता है. व्यक्ति के संपर्क का उपयोग केवल उपयोगकर्ता को सचेत करने के लिये किया जाता है.’’ यह ऐप एंड्रॉइड, एप्पल के आईओएस और जिओ फोन पर उपलब्ध है. सरकार ने उन लोगों के लिये एक टोल फ्री नंबर 1921 भी जारी किया है जिनके पास स्मार्टफोन नहीं है.साहनी ने कहा, ‘‘आरोग्य सेतु के 13,000 से कम उपयोगकर्ताओं को कोरोना वायरस संक्रमण में सकारात्मक पाया गया है, लेकिन इसकी मदद से लगभग 1.4 लाख ऐसे लोगों का पता लगाया गया और सतर्क किया गया है, जो संक्रमित व्यक्ति के निकट संपर्क में आये हैं.’’ उन्होंने कहा कि गोपनीयता आरोग्य सेतु का एक महत्वपूर्ण पहलू है.नागरिकों के अधिकार का पक्ष रखने वाले कई समूहों ने आरोप लगाया है कि सरकार विशेष रूप से गोपनीयता के आसपास किसी भी कानून की अनुपस्थिति में बड़े पैमाने पर निगरानी के लिए आरोग्य सेतु का उपयोग कर रही है. मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा, “प्रोटोकॉल कानूनी अंतर को पाटने और गोपनीयता संबंधी चिंताओं को दूर करने के लिये जारी किया गया है.”साहनी ने कहा कि एक गैर-संक्रमित व्यक्ति का डेटा 30 दिन में हटा दिया जाता है. इसके अलावा जांच कराने वाले लोगों का डेटा 45 दिन में बौर इलाज कराने वाले लोगों का डेटा 60 दिन में हटा दिया जाता है.यह भी पढ़ें: आदिवासियों तक मदद पहुंचाने के लिए 14 घंटे पैदल चले नौसेना के यह पूर्व कमांडर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 11, 2020, 11:24 PM IST

अब फोन पर फ्री में सुने 1 लाख नए-पुराने गानें, कमाल की सर्विस दे रही है ये म्युज़िक स्ट्रीमिंग ऐप

अब फोन पर फ्री में सुने 1 लाख नए-पुराने गानें, कमाल की सर्विस दे रही है ये म्युज़िक स्ट्रीमिंग ऐप

Spotify के यूजर्स को Saregama के सारे कैटलॉग सुनने को मिलेंगे.

अब Spotify के भारतीय यूजर्स को Saregama के सारे कैटलॉग सुनने को मिलेंगे, जिसमें फिल्मी संगीत के साथ ही 25 से ज्यादा भाषाओं के गाने शामिल है…

म्यूजिक स्ट्रीमिंग सेवा स्पॉटीफाई (Spotify) ने सारेगामा (Saregamapa) के साथ भारतीय बाजार के लिए लाइसेंसिंग साझेदारी समझौता किया है. कंपनी द्वारा सोमवार को किए गए ऐलान में बताया गया है कि इस भागीदारी के चलते Spotify के भारतीय यूज़र्स को Saregama के सारे कैटलॉग सुनने को मिलेंगे, जिसमें फिल्मी संगीत के साथ ही 25 से ज्यादा भाषाओं के गाने शामिल है. इसके अलावा इसमें कर्नाटक, हिंदुस्तानी क्लासिकल और भक्ति संगीत भी शामिल है.Spotify के डायरेक्टर ऑफ ग्लोबल लाइसेसिंग पॉल स्मिथ ने अपने बयान में कहा है कि Saregama के साथ हुए इस करार के चलते स्पॉटिफाई इंडिया के यूज़र्स को 100,000 रेट्रो और नए ज़माने के गाने मिलेंगे. साथ ही उन्हें तमाम स्थानीय भाषाओं ने उनके पसंद के नए-पुराने गाने सुनने की सहूलियत प्राप्त होगी.(ये भी पढ़ें- ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन) गौरतलब है कि पूरी दुनिया में Spotify के करीब 28.6 करोड़ यूजर्स है जिसमें से करीब 13 करोड़ यूजर्स पेड सब्सक्राइबर हैं.अब भारत में Spotify के यूजर्स  लता मंगेशकर, आरडी बर्मन, मोहम्मद रफ़ी, तलत महमूद, मन्ना डे, कल्याणजी-आनंदजी, हेमंत कुमार के गाये गानों का मजा ले सकेंगे. इसके साथ ही वो Spotify प्लेलिस्ट में भी अपनी पसंद के गाने पा सकेंगे जिसमें भारतीय  फिल्मों के अलग-अलग टाइटल पर आधारित तमाम नए-पुराने गाने उपलब्ध हैं.(ये भी पढ़ें-शानदार ट्रिक! फोन की स्पीड बढ़ानी है तो अभी डिलीट कर दें फोन का ये एक फोल्डर) Saregama इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर विक्रम मेहरा ने कहा कि  Spotify के साथ हुए करार से हमें खुशी है. अब हमारे कैटलॉग में उपलब्ध संपूर्ण संगीत भारत सहित पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा. Saregama के पास 25 से ज्यादा भाषाओं  में नए और पुराने गानों का जबरदस्त संग्रह है. हमें उम्मीद है कि इस करार से हमारे स्रोताओं को भी खुशी होगी.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए ऐप्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 11, 2020, 5:22 PM IST

बेहद सस्ते में लॉन्च हुआ Realme Narzo 10, फोन में 48 मेगापिक्सल के 4 कैमरे और कई खास फीचर्स

बेहद सस्ते में लॉन्च हुआ Realme Narzo 10, फोन में 48 मेगापिक्सल के 4 कैमरे और कई खास फीचर्स

Realme Narzo 10 में क्वाड कैमरा सेटअप है.

रियलमी Narzo 10 की सबसे खास बात इसकी कम कीमत में 5000mAh की बैटरी और क्वाड कैमरा सेटअप है…

रियलमी (Realme) ने आज अपने दो स्मार्टफोन Narzo 10 और Narzo 10A को लॉन्च कर दिया है. इन फोन का भारतीय बाज़ार में काफी समय से इंतज़ार किया जा रहा था, और आकिरकार इन दोनों फोन पर से पर्दा उठा दिया गया है. इन दोनों फोन में से Narzo 10 की बात करें तो इसकी सबसे खास बात इसकी कम कीमत में 5000mAh की बैटरी और क्वाड कैमरा सेटअप है. आईए जानते हैं नार्ज़ो 10 के फीचर्स…रियलमी Narzo 10  में 6.5 इंच का एचडी प्लस डिस्प्ले दिया गया है, जिसका रिजोलूशन 720×1600 पिक्सल है. स्क्रीन की प्रोटेक्शन के लिए 2.5D कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास दिया गया है. ये स्मार्टफोन एंड्रॉयड 10 पर बेस्ड रियलमी UI ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करता है.(ये भी पढ़ें- ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन) इसके अलावा इस स्मार्टफोन में बेहतर परफॉर्मेंस के लिए ऑक्टा-कोर MediaTek Helio जी80 चिपसेट के साथ 4 जीबी LPDDR4X रैम का सपोर्ट मिला है.  इस स्मार्टफोन को ग्रीन और वाइट कलर ऑप्शन के साथ खरीदा जा सकेगा.Realme Narzo 10 का कैमरा
इस स्मार्टफोन में क्वाड रियर कैमरा सेटअप दिया गया है, जिसमें 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी लेंस, 8 मेगापिक्सल का लेंस, 2 मेगापिक्सल का मोनोक्रोम सेंसर और 2 मेगापिक्सल का मैक्रो शूटर मौजूद है.  इसके अलावा स्मार्टफोन के फ्रंट में में 16 मेगापिक्सल का सेल्फी कैमरा दिया गया है, जो एचडी वीडियो क्वालिटी को सपोर्ट करता है.(ये भी पढ़ें-शानदार ट्रिक! फोन की स्पीड बढ़ानी है तो अभी डिलीट कर दें फोन का ये एक फोल्डर) पावर के लिए स्मार्टफोन में 5,000 एमएएच की बैटरी दी गई है, जो कि 18 वॉट की क्विक चार्जिंग फीचर के साथ आती है. कनेक्टिविटी की बात करें तो इस स्मार्टफोन में 4जी LTE, वाई-फाई, ब्लूटूथ, जीपीएस और यूएसबी पोर्ट टाइप-सी जैसे फीचर्स दिए गए हैं.इतनी है Narzo 10 की कीमत कंपनी ने Realme Narzo 10 के 4 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज वाले वेरिएंट की कीमत 11,999 रुपये रखी है. इस स्मार्टफोन की बिक्री कंपनी की आधिकारिक साइट और ई-कॉमर्स साइट फ्लिपकार्ट पर 18 मई से शुरू होगी.(ये भी पढ़ें- बुरी खबर! महंगा हो गया Xiaomi का 64 मेगापिक्सल कैमरे वाला शानदार स्मार्टफोन) 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए लॉन्च/रिव्यू से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 11, 2020, 4:52 PM IST

बुरी खबर! महंगा हो गया Xiaomi का 64 मेगापिक्सल कैमरे वाला शानदार स्मार्टफोन

बुरी खबर! महंगा हो गया Xiaomi का 64 मेगापिक्सल कैमरे वाला शानदार स्मार्टफोन

Redmi Note 9 Pro Max महंगा हो गया है.

पूरे देश में लॉकडाउन के चलते मार्च में होने वाली इस फोन की पहली सेल कैंसल करनी पड़ गई थी, और अब सेल से पहले ही इसकी कीमत बढ़ गई है…

अप्रैल से मोबाइल फोन (mobile Phone) पर नए GST रेट लागू होने की वजह से कंपनियों ने स्मार्टफोन की कीमत बढ़ा दी है. इसी बीच शियोमी (xiaomi) के नए स्मार्टफोन रेडमी नोट 9 प्रो मैक्स (redmi note 9 pro max) की बढ़ी हुई कीमत सामने आ गई है. शियोमी ने इस फोन को मार्च में 14,999 रुपये की शुरुआती कीमत में लॉन्च किया गया था, जो कि अब बढ़ कर 16, 499 रुपये हो गई है. जानकारी के लिए बता दें पूरे देश में लॉकडाउन के चलते इस फोन की पहली सेल कैंसल करनी पड़ गई थी, जिसके बाद अब 12 मई को इसे फिर से उपलब्ध कराया जाएगा.फोन को 6 जीबी रैम+ 64 जीबी स्टोरेज, 6 जीबी रैम+ 128 जीबी स्टोरेज और 8 जीबी रैम+ 128 जीबी स्टोरेज में लॉन्च किया गया है. आईए जानते हैं कितने बढ़ गए हर वेरिएंट के दाम…(ये भी पढ़ें- ज़बरदस्त ऑफर! सिर्फ 22,999 रुपये का हुआ सैमसंग का 63 हज़ार वाला धांसू स्मार्टफोन) रेडमी नोट 9 प्रो मैक्स के 6 जीबी रैम और 64 जीबी स्टोरेज की कीमत 16,499 हो गई है, जो कि पहले 14,999 रुपये थी, दूसरी तरफ इसके 6 जीबी रैम+128 जीबी स्टोरेज की कीमत 17,999 हो गई है, जो कि पहले 16,999 रुपये थी और फोन के 8 जीबी रैम और 128 जीबी स्टोरेज वेरिएंट की कीमत 19,999 हो  गई है, जो कि पहले 18,999 रुपये रखी गई थी.ऐसे हैं फोन के फीचर्स
ए रेडमी नोट 9 प्रो मैक्स में 6.67 इंच का डिस्प्ले दिया गया है. जानकारी के लिए बता दें कि शियोमी के अब तक के स्मार्टफोन में दी गई ये सबसे बड़ी डिस्प्ले है. रेडमी नोट 9 प्रो मैक्स में फ्रंट और बैक पर कॉर्निंग गोरिल्ला ग्लास 5 की प्रोटेक्शन दी गई है. लॉन्च इवेंट के दौरान कंपनी ने बताया था कि रेडमी नोट सीरीज़ का ये पहला ऐसा स्मार्टफोन है जिसमें स्नैपड्रैगन 700 सीरीज दिया गया है. रेडमी नोट 9 प्रो में क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 720G प्रोसेसर दिया गया है. ग्राहक इस फोन को ब्लू, वाइट और ब्लैक तीन कलर ऑप्शन्स में खरीद सकते हैं.(ये भी पढ़ें-शानदार ट्रिक! फोन की स्पीड बढ़ानी है तो अभी डिलीट कर दें फोन का ये एक फोल्डर) रेडमी नोट 9 Pro Max के क्वाड रियर कैमरा सेटअप दिया गया है. इसका प्राइमरी कैमरा 64 मेगापिक्सल का है. इसके साथ 119 डिग्री फील्ड ऑफ व्यू के साथ 8 मेगापिक्सल का सेकेंडरी कैमरा है. यहां पर 5 मेगापिक्सल का मैक्रो शूटर और 5 मेगापिक्सल का डेप्थ सेंसर भी दिया गया है. फोन में RAW फोटोग्राफी के लिए सपोर्ट है. इसके अलावा सेल्फी के लिए फोन में 32 मेगापिक्सल का फ्रंट कैमरा दिया गया है.  पावर के लिए फोन में 5,020 mAH की बैटरी दी गई है, जो कि 30 वॉट की फास्ट चार्जिंग को सपोर्ट करती है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए गैजेट्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 11, 2020, 12:31 PM IST